liveindia.news

महंत गिरि मौत मामले में CBI को मिले अहम सबूत

महंत गिरि मौत मामले में CBI को मिले अहम सबूत

महंत गिरि मौत मामले में सीबीआई को मिले अहम सबूत

अखड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरि की मौत के मामले की जांच सीबीआई कर रही है. सीबीआई मामले में आनंद गिरी को लेकर उत्तराखंड गई थी, जहां से सीबीआई के हाथ अहम सबूत हाथ लगे है. सबूतों को लेकर सीबीआई प्रयागराज लौट आई है. सूत्रों का कहना है कि सीबीआई को आनंद गिरी के आश्रम से कई ऐसे सबूत मिले है, जिनसे महंत नरेन्द्र गिरि की मौत का राज खुल सकता है. 

ये भी पढ़ें - मठ में दफन है मंहत नरेन्द्र गिरि की मौत का राज
ये भी पढ़ें - महंत नरेन्द्र गिरि का वीडियो आया सामने, देखिए वीडियो
ये भी पढ़ें - क्या पेट्रोल पंप को लेकर हुई महंत नरेन्द्र गिरि की हत्या?

सूत्रों का कहना है कि सीबीआई ने आनंद गिरी के आश्रम से एक लैपटॉप बरामद किया है. जिसमें महंत का कथित वीडियो है. सीबीआई ने प्रयागराज लौटकर आद्या प्रसाद तिवारी और उसके बेटे संदीप तिवारी से पूछताछ की है. सीबीआई ने तीनो से वीडियो को लेकर अगल अलग पूछताछ की है. सूत्रों का कहना है की अलग अलग पूछताछ के बाद तीनों को एक साथ बिठाकर सवाल जबाव किए जा सकते है. बताया जा रहा है की बुधवार की देर रात सीबीआई ने आनंद गिरी से करीब रात के 3 बजे तक पूछताछ की थी, इसके साथ ही आश्रम के लोगों और हरिद्वार के लोगों से भी पूछताछ की है. 

ये भी पढ़ें - मठ में दफन है मंहत नरेन्द्र गिरि की मौत का राज
ये भी पढ़ें - महंत नरेन्द्र गिरि का वीडियो आया सामने, देखिए वीडियो
ये भी पढ़ें - क्या पेट्रोल पंप को लेकर हुई महंत नरेन्द्र गिरि की हत्या?

सीबीआई आनंद गिरी को लेकर हरिद्वार पहुंची थी तो सीबीआई ने आनंद गिरी के आश्रम के अलावा अन्य आश्रमों में भी छापामारी की थी. जिसमें सीबीआई को आश्रम से लैपटॉप सहित कई अहम सबूत मिले है. सूत्रों का कहना है कि सीबीआई लैपटॉप की जांच कर जल्द ही मामले में कोई बड़ा खुलासा कर सकती है. वही सीबीआई आनंद गिरि के मोबाइल फोन और इनकमिंग कॉल्स की भी जांच कर रही है. 

क्या हनी ट्रैप के शिकार हुए थे महंत नरेंद्र गिरि?

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत का मामला सीबीआई के पास है. सूत्रो का कहना है कि केस सीबीआई के पास जाने से पहले एसआईटी ने आनंद गिरि के गु्रप से एक वीडियो बरामद किया था जो महंत नरेन्द्र गिरि की संदिग्ध मौत के पीछे हनी ट्रैप की वहज हो सकती है. सूत्रों का कहना है कि आनंद गिरि इसी वीडियो से नरेंद्र गिरि को ब्लैक मेल कर रहा था. नरेंद्र गिरि ने भी अपने द्वारा लिखे सुसाइड नोट में भी इसका जिक्र किया था. फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार नरेन्द्र गिरि ने आत्महत्या की है, जबकि मठ के संत और उनके चाहने वालों का कहना है कि महंत नरेन्द्र गिरि की हत्या की गई है. यह एक साजिश है. वही नरेन्द्र गिरि के सुसाइड नोट के अनुसार पूरा मामला एक महिला जुडा हुआ है. 

सुसाइड नोट में आनंद गिरि का नाम

महंत नरेंद्र गिरि ने लिखा कि आनंद गिरि के कारण आज मैं विचलित हो गया. हरिद्वार से सूयना मिली की आनंद कंप्यूटर के माध्यम से एक लड़की के साथ मेरा फोटो जोड़कर गलत काम कर मेरे को बदनाम करने जा रहा है. आनंद का कहना है कि यदि मैं ने कहा तो आप सफाई देते रहोगे. आगे नरेंद्र गिरि ने लिखा कि मैं जिस सम्मान से जी रहा हूं अगर मेरी बदनामी हो गई तो मैं समाज मैं कैसे रहूंगा, इससे अच्छा मर जाना ठीक रहेगा. सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने यह भी लिखा है कि वे 13 सितंबर को अपनी जीवन लीला समाप्त करने वाले थे, लेकिन लेकिन हिम्मत नहीं कर पाए. लेकिन मुझे हरिद्वार से जानकारी मिली की आनंद गिरि फोटो वायरल करने वाला है, तो बदनामी से अच्छा है कि में मर जाउ. मेरी आत्महत्या का जिम्मेदार आनंद गिरि, पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी और उनका लड़का संदीप तिवारी है. 


Leave Comments