सड़क परिवहन के बाद नमामि गंगा भी नितिन गड़करी के पास

लाइव इंडिया न्यूज़। भूतल व जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी को रेल मंत्रालय की जिम्मेदारी मिलने की चर्चा धरातल पर नहीं उतर पायी. हालांकि रेल का चार्ज महाराष्ट्र के ही प्रतिनिधि को मिला है. ऊर्जा विभाग का स्वंतत्र प्रभार संभालनेवाले राज्यमंत्री पीयूष गोयल रेल मंत्री बनाये गए हैं.केंद्र में मोदी कैबिनेट के विस्तार व फेरबदल में किसे क्या मिला, इस प्रश्न को लेकर नये सिरे से चर्चाओं का दौर चल पड़ा है. इस बीच यह बात अहम  है कि प्रधानमंत्री के सपनों का प्रकल्प कहलाने वाले ‘नमामि गंगे’ की योजना का केंद्र नागपुर हो गया है। गंगा सफाई व प्रदूषण मामले के अध्ययन की जिम्मेदारी संभालनेवाले पर्यावरण अनुसंधान केंद्र नीरी अर्थात नेशनल एनवायरमेंट इंजीनियरिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट भी नागपुर में ही है। इसके अलावा केंद्रीय जल आयोग का कार्यालय भी नागपुर में हैं। बताया जा रहा है कि गंगा को लेकर मंत्री उमा भारती के कार्यों का रिकार्ड कार्ड ठीक नहीं था. आडिट रिपोर्ट में भी बताया गया था कि गंगा पर उस गति से काम नहीं हो रहा है, जो होना चाहिए. मंत्री पद से इस्तीफों की चर्चा के साथ ही माना जा रहा है कि उमा भारती नाराज हैं। रविवार को मंत्रिमंडल विस्तार के समय उनकी अनुपस्थिति से नाराजगी की चर्चा को बल मिलता रहा.


Leave Comments