liveindia.news

मोदी से ममता की 4 राजधानियों की मांग!

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले राज्य कि सियासत अपने चरम पर है. आज स्वतंत्रता संग्राम सेनानी नेता जी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के मौके पर ममता बनर्जी ने मोदी सरकार से अनोखी मांग कर डाली. ममता ने आज कोलकाता में पदयात्रा के दौरान कहा की देश में चार राजधानियां होनी चाहिए. देश में एक ही राजधानी क्यों है, उन्होंने आगे कहा की अंग्रेजों ने भी देश पर कोलकाता से शासन किया था.

ममता ने रैली को संबोधित करते हुए कहा की रवींद्रनाथ टैगोर ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस को देशनायक कहा था, लेकिन ये पराक्रम क्या है. नेता जी ने कभी किसी राज्य के साथ भेदभाव नहीं किया. उन्होंने जब इंडियन नेशनल आर्मी का गठन किया था, तब नेताजी ने बंगाल, गुजरात, तमिलनाडु सहित कई राज्यों को साथ में लिया था. नेता अंग्रेजों की फूट डालो शासन करों के खिलाफ लड़े थे. ममता ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा की केन्द्र सरकार ने मूर्तियों और नए संसद परिसर निर्माण में हजारों करोड़ों रूपये खर्च किए. अब हम आजाद हिंद स्मारक का निमार्ण करेंगे. साथ ही ममता बनर्जी ने 23 जनवरी को नेताजी की जयंती के मौके पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की अपील की और राजरहाट में एक समाधि स्थल और एक नेता जी के नाम से विश्वविद्यालय की स्थापना की मांग की है.

बता दें की पश्चिम बंगाल में इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले है. ऐसे में राजनैतिक दलों ने अपनी कमर कंस ली है. आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती टीएमसी और बेजीपी के लिए बंगाल चुनाव को लेकर काफी अहम है. आज दोनों ही दल बंगाली अस्मिता से खुद को जोडने का प्रयास करेंगे. बता दें की सुभाष चंद्र बोस का जन्म 12.15 बजे हुआ था. इसलिए ममता 12 बजर 15 मिनट पर पत्रयात्रा का शंखनाद किया ममता सरकार ने सुभाष चंद्र बोस जयंती के मौके पर लोगों से अपील की है की वह नेता जी के सम्मान में अपने घरों में शंख बजाएं.


Leave Comments