liveindia.news

सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज का हिस्सा रहे डर्थावमा का निधन

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज का हिस्सा रहे डर्थावमा का निधन हो गया है. उनका निधन रविवार की सुबह दक्षिण मिजोरम के लुंगलेई में हुआ है. वह 99 वर्ष के थे. वह सुभाष चंद्र बोल की आजद हिंद फौज के एकमात्र जीवित सदस्य थे. बताया जा रहा है वह कई दिनों से बीमार चल रहे थे. डर्थावमा के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था.

सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज का हिस्सा रहे डर्थावमा का निधन

स्वतंत्रता सेनानी के निधन पर जिला प्रशासन, सेना, अर्द्धसैनिक बलों, गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधि और भूतपूर्व सैनिक उनके अंतिम दर्शन करने पहुंचे. डर्थावमा द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान 27 नवंबर 1940 को ब्रिटिश भारतीय सेना की सैन्य मेडिकल कोर में शामिल हुए थे. 1942 की शुरुआत में मलेशिया के पेनांग द्वीप पर तैनाती के दौरान उन्हें जापानी इम्पीरियल आर्मी ने पकड़ लिया था. ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ लड़ाई के लिए मई 1942 में वह आजाद हिंद फौज का हिस्सा बने. आजाद हिंद फौज में शामिल होने के दो साल बाद 1944 में ब्रिटिश सैनिकों ने उन्हें पकड़ लिया. हालांकि महात्मा गांधी के दखल के बाद 15 जनवरी 1945 को उन्हें लखनऊ जेल से रिहा कर दिया गया. आजादी की लड़ाई में उनके योगदान के लिए भारत सरकार ने 1972 में उन्हें ‘ताम्रपत्र पुरस्कार’ से सम्मानित किया.


Leave Comments