liveindia.news

रक्षाबंधन पर नक्सली भाई ने बहन के लिए किया सरेंडर

छत्तीसगढ़ डेस्क : कल ही देश भर में रक्षा बंधन का पर्व मनाया गया है. रक्षा बंधन के त्यौहार पे हर बहन अपने भाई की लम्बी उम्र की कामना करती है. छत्तीसगढ़ में भी एक बहन ने अपने भाई को मौत के करीब जाने से बचा लिया. दरअसल, एक बहन ने अपने नक्सली भाई को आत्मसमर्पण करने के लिए कहा, और बहन की बात मानते हुए नक्सली ने सरेंडर कर दिया.

यह मामला छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिले दंतेवाड़ा का है. यहां पर रहने वाला मल्ला 12 साल की उम्र में ही घर से भाग गया था. घर से भागने के बाद मल्ला नक्सली गतिविधियों से जुड़ गया. कई सालों बाद इस साल रक्षाबंधन के मौके पर मल्ला को अपनी बहन की याद आ गई. जिसके बाद वो अपनी बहन से मिलने अपने घर पहुंचा. 

रक्षाबंधन के घर लौट के आए मल्ला को देख कर घर के सभी लोग खुश हुए. इस मौके पर उसकी बहन ने मल्ला की आरती उतारी और राखी भी बांधी. बहन से मिलने के बाद जब मल्ला वापस जंगल में जाने लगा तब उसकी बहन ने उससे आत्मसमर्पण करने की सिफारिश की. जिसके बाद मल्ला ने अपनी बहन की बात नहीं टाली और आत्मसमर्पण कर दिया. 

आपको बता दें की मल्ला पर 8 लाख रूपए का इनाम था. मल्ला को 2016 में प्लाटून डिप्टी कमांडर बनाया गया था. मल्ला उस सभी वारदाताओं में शामिल था जिसमे कई पुलिसकर्मियों की जान गई थी. पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव का कहना है की मल्ला ने लोन वर्राटू अभियान के तहत सरेंडर किया है. इस अभियान के तहत नक्सलियों के आत्मसमर्पण करने के बाद उन्हें उनकी काबिलियत और पसंद के अनुसार काम दिया जाता है. 

 


Leave Comments