liveindia.news

नेकी करके Shailja को मिला ठेंगा , CM Vijayan ने नहीं दी कैबिनेट में जगह

नेकी करके Shailja को मिला ठेंगा , CM Vijayan ने नहीं दी कैबिनेट में जगह

केरल डेस्क : देश में जारी महामारी के बीच सम्पन्न हुए विधानसभा चुनावों में जहां सबसे ज़्यादा ध्यान बंगाल ने खेंचा था, तो वहीं अब मंत्रिमंडल विस्तार होने के बाद केरल की राजनीती की चर्चा हर जगह हो रही है. और इसकी वजह है राज्य की पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के.के शैलजा, वो शैलजा जिन्हे अपनी नेकी करने का फल ठेंगे के रूप में मिला. 


कौन है के. के शैलजा 

के. के शैलजा केरल की राजनीति का एक बड़ा चेहरा होने के साथ ही राज्य में सीपीएम को जीत दिलाने के लिए मानी जाती है. के. के शैलजा ने कोरोना महामारी के समय केरल में अपनी सूझ-बूझ के साथ काम किया और उसका परिणाम यह हुआ की कोरोना को काबू में करने के लिए शैलजा और केरल की हर जगह तारीफ हुई. शैलजा के इस काम के साथ ही उनका इस विधानसभा चुनाव में जीतने के साथ ही मंत्री बनना भी तय था. 

 

लेकिन होनी को कुछ और ही मंज़ूर था, और शैलजा को यहां अपनी नेकी का फल नहीं मिला. मुख्यमंत्री पी विजयन ने अपनी कैबिनेट में शैलजा को मंत्री पद नहीं सौंपा. शैलजा को मंत्री पद ना देने को लेकर जब राज्य सरकार से सवाल किया गया तो सीपीएम ने कहा कि, हर बार मंत्रिमंडल में चेंज करना यह पार्टी का नियम है. 


दामद को दी जगह 

मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि, विजयन ने ना केवल शैलजा को मंत्रिमंडल से बाहर किया है बल्कि आश्चर्य की बात तो मंत्रिमंडल में अपने दामाद मोहम्मद रियास को शामिल करना है. मोहम्मद रियास रिश्ते में तो विजयन के दामाद लगते हैं लेकिन,  इसके साथ ही वो CPI(M) के यूथ विंग ‘डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं. 

 

 


Leave Comments