liveindia.news

गोवा में सैर सपाटा हुआ शुरू ,जानें नए नियम

लॉकडाउन के टाइम पर सबके पास घूमने के लिए समय तो था लेकिन घूमने फिरने की सारी जगहें बंद पड़ी हुई थी.  चीन के वुहान शहर से निकलने कोरोना वायरस महामारी ने पूरी दुनिया को एक तरह से बंद करके रख दिया था.  इस महामारी का असर कई चीज़ों पर पड़ा. लेकिंन जैसे-जैसे देश में अनलॉक की अवधि बढ़ रही है, कई चीज़ें वापस से खुलने के लिए तैयार हो गई है. विदेशियों को अपनी और आकर्षित करने वाला गोवा भी अब एक बार फिर सैर सपाटे के लिए खुलने की तैयारी कर चुका है. 

जी हां , आपने बिलकुल सही पढ़ा गोवा एक बार फिर घूमने-फिरने के लिए खुल गया है. अगर आप भी घर में रह-रह कर अब बोर हो चुके हैं और आपका मन भी किसी समुद्र वाली जगह पर घूमने का कर रहा है, तो आप भी गोवा जा सकते हैं. गोवा सैर सपाटे के लिए अब खोला जा चुका है. लेकिन यहां पर घूमने फिरने के लिए अब कुछ कड़े नियमों का पालन करना होगा. 
इन नियमों का पालन करना है सबसे ज़्यादा ज़रूरी 

गोवा की सरकार द्वारा जारी की गई नई गाइडलाइन्स के मुताबिक अगर आप गोवा घूमने बाहर से आ रहे हैं तो आपको अपने होटल की प्री बुकिंग करवानी होगी. यह नियम काफी ज़रूरी होगा. गोवा पहुंचने के बाद आप किसी भी होटल में बुकिंग नहीं कर पाएंगे. ऐसा करना वहां सख्त मना होगा. 

 होटल में बुकिंग करवाते समय आपको एक सेल्फ डिक्लेरेशन करना होगा की आप कोरोना वायरस से ग्रसित नहीं है. आपको अपना एक मेडिकल भी दिखाना पड़ सकता है. यदि आप होटल पहुंचने के बाद कोरोना संक्रमित पाए जाते हैं तो आपके खिलाफ कार्रवाई भी हो सकती है. 

गोवा सरकार द्वारा गाइडलाइन्स में यह भी कहा गया है की सभी टूरिट्स को राज्य में प्रवेश करने के लिए डॉक्टर से एक सर्टिफिकेट लाना होगा. जिसमे यह लिखा हो की आप कोरोना से ग्रसित नहीं हैं या आप अब कोरोना से फ्री हो चुके हैं. 

सैलानी भले ही किसी भी मार्ग से गोवा पहुंचा हो,लेकिन थर्मल स्कैनिंग हर जगह होगी. सड़क, हवाई या फिर जल मार्ग से गोवा आने वाले टूरिस्ट्स को सबसे पहले थर्मल स्कैनिंग कराना अनिवार्य होगा.

यदि आपके पास डॉक्टर के द्वारा दिया गया करों फ्री सर्टिफिकेट नहीं होगा, तो आपको स्वैब जांच अवश्य रूप से करवानी पड़ेगी. यह उन सभी यात्रियों के लिए ज़रूरी होगा जिनके पास डॉक्टर का कोरोना फ्री सर्टिफिकेट नहीं होगा. 

कोई भी यात्री अगर गोवा में जांच के बाद पॉजिटिव पाया जाएगा तो उसे राज्य से बहार जाने की इजाजत नहीं होगी. उसे राज्य के ही क्वारंटाइन सेंटर में भर्ती किया जाएगा. 

आपको बता दें की इन सभी नियमों का पालन गोवा आये सभी यात्रियों को करना ही होगा. यदि यात्री द्वारा किसी एक भी नियम का पालन नहीं किया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई हो सकती है. 


Leave Comments