मथुरा में संघ की बैठक में जीडीपी और जीएसटी को लेकर सरकार पर सवाल

लाइव इंडिया न्यूज- आरएसएस (RSS) की राष्ट्रीय समन्वय समिति की बैठक में केेंद्र सरकार के कामकाज  को लेकर आरएसएस ने चिंता जाहिर की है. खासकर, ताजा रिपोर्ट में सकल घरेलू उत्पाद (गिरती जीडीपी) की स्थिति ने चौंकाया है. इसके अलावा वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) की दिक्कतों को दूर करने और रोजगार सृजन के लिए संघ ने संदेश दिया है. संघ मोदी के कामकाज से खुश है, लेकिन कई मंत्री और सांसद उसकी कसौटी पर खरे नहीं हैं.शनिवार को बैठक में लंच से पहले दो सत्र हुए. आर्थिक मुद्दों पर चर्चा में संघ प्रतिनिधियों ने कहा कि जीडीपी का गिरता ग्र्राफ तुरंत रोका जाना चाहिए. जीएसटी की दिक्कतों से छोटे व्यापारियों में सरकार की गिरती साख की बात रखी गई.

केंद्र सरकार की छवि को लेकर संघ पदाधिकारियों ने कोई सीधी टिप्पणी नहीं की, लेकिन फिर भी उनका इशारा इसी तरफ था. संघ पदाधिकारियों का कहना था कि नोटबंदी के बाद रोजगार की स्थिति ठीक नहीं है. संघ का कहना था कि इससे नवयुवकों में किसी तरह की असंतुष्टि का भाव पैदा न होने पाए.एक अन्य सत्र में विभिन्न राज्यों से जुड़े 39 संगठनों के संयोजक और महामंत्रियों में से कई ने अपने लोकसभा क्षेत्र में सांसद और मंत्रियों के कामकाज के अनुभवों को साझा किया.

उनकी टीस दिखी कि सरकार के प्रतिनिधि अपेक्षा और वादों के मुताबिक काम नहीं कर रहे, इसका संदेश जनता में ठीक नहीं जा रहा. लिहाजा, समय रहते ड्रैमेज कंट्रोल जरूरी हो गया है. इस सत्र में यह बात भी सामने आई कि कुछ सांसद और मंत्री ऐसे हैं, जिनसे सरकार की साख प्रभावित हो रही है. कहा गया कि मोदी के कामकाज से इतर उनके कई मंत्रियों के कामकाज से लोग संतुष्ट नहीं हैं, इस पर ध्यान देने की जरूरत है.


Leave Comments