liveindia.news

BJP का कोई मुख्यमंत्री नहीं कर पाया अपना कार्यकाल पूरा

उत्तराखंड की राजनीति का अनूठा इतिहास रहा है. यहां की राजनीति कभी स्थिर नहीं रह सकी. अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) के कार्यकाल में उत्तराखंड राज्य का निर्माण हुआ था, तभी से उत्तराखंड में BJP के जितने भी मुख्यमंत्री रहे, वो पांच सालों तक अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए और अब राज्य के वर्तमान मुख्यमंत्री त्रिवेद्र सिंह रावत (CM Trivendra Singh Rawat) आज अपने कार्यकाल से पहले इस्तीफा देने जा रहे हैं. हालांकि एनडी तिवारी ही एक ऐसे मुख्यमंत्री रहे हैं, जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया है. बाकी मुख्यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नहीं पाए हैं.

सीमए त्रिवेंद्र सिंह रावत देंगे इस्तीफा!

सूत्रों के मुताबिक उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं. आज शाम चार बजे त्रिवेंद्र रावत राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मुलाकात करने वाले हैं. इस दौरान सीएम रावत अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप सकते हैं. सूत्रों का कहना है कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत का इस्तीफा देना तय हो गया है. राज्यपाल से मुलाकात करने के दौरान सीएम रावत के साथ प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष बंशीधर भगत भी मौजूद रहेंगे. बताया जा रहा है कि BJP आलाकमान के फैसले के बाद सीएम रावत अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौपेंगे. सीएम रावत के इस्तीफे के बाद विधायक दल की बैठक बुलाई जाएगी, जिसमें नए मुख्यमंत्री पर मथन किया जाएगा. सूत्रों का कहना है कि राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी, लोकसभा सांसद अजय भट्ट और सरकार के कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है.

सियासी उठापठक के बाद देंगे इस्तीफा!

बता दें कि बीते दिनों से देवभूमि उत्तराखंड में सियासी उठा पटक जारी है. इसी बीच बीते सोमवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को दिल्ली में पार्टी हाईकमान ने बातचीत के लिए बुलाया था. जिसके बाद से यहे कयास लगाए जा रहे थे कि, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुर्सी जा सकती है, और साथ ही में राज्य में सत्ता परिवर्तन की भी खबरें आ रहीं थीं. दिल्ली की मुलाकात के बाद ये भी कहा जा रहा था कि सीएम त्रिवेंद्र सिंह ही मुख्यमंत्री रहेंगे, साथ ही राज्य में सत्ता परिवर्तन भी नहीं होगा. ये दावा बीजेपी विधायक और उत्तराखंड सरकार के प्रवक्ता मुन्ना चैहान ने किया था. उन्होंने कहा था कि, राज्य में सीएम त्रिवेंद्र को पार्टी का पूरा समर्थन है. साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि, देहरादून में विधायक दल की औपचारिक बैठक भी नहीं हुई है.


Leave Comments